पैक्ड और फ्लेवर्ड फ्रूट जूस बच्चों के दिमाग के लिए खतरनाक हो सकता है

Share:

पैक्ड और फ्लेवर्ड फ्रूट जूस बच्चों के दिमाग के लिए खतरनाक हो सकता है


यह पैक्ड और सुगंधित फलों के रस का स्वाद बाजार में मिलता है, लेकिन स्वास्थ्य के लिहाज से यह आपके बच्चों के लिए घातक है। इसलिए, डॉक्टर आपको बाजार में मिलने वाले तरल के बजाय घर पर ताजे फलों के रस का सेवन करने का सुझाव देते हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि पैक्ड और फ्लेवर्ड फ्रूट जूस का आपके और आपके बच्चों के स्वास्थ्य पर कितना भयानक प्रभाव पड़ता है।
पैक फलों के रस का प्रभाव

उपभोक्ता रिपोर्ट्स पत्रिका के अनुसार, कैडमियम, ऑर्गेनिक, आर्सेनिक और मरकरी या लेड पैकेज्ड और फ्लेवर्ड फ्रूट जूस में पाए जाते हैं, जिसका बच्चों के स्वास्थ्य पर भयानक प्रभाव पड़ता है। बाजार में अधिकांश ब्रांडेड दूध को भी इस अध्ययन में शामिल किया गया था। जिसमें निकट रस में लगभग धातु का कटर मिला था


इस अध्ययन में 45 रसों का परीक्षण किया और पाया कि 21 बड़ी मात्रा में धातु में पाए गए थे। सर्वेक्षण में शोधकर्ताओं के लिए उपभोक्ता रिपोर्टों के साथ काम करना चौंकाने वाला था। उपभोक्ता रिपोर्ट के मुख्य विज्ञान अधिकारी जेम्स डिकर्सन ने कहा कि एक दिन में केवल 4 औंस पीना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। वे स्वास्थ्य के लिए अपने जोखिम को बढ़ा सकते हैं। जाता है।
पैकेज्ड और फ्लेवर्ड फ्रूट जूस ब्रेन का प्रभाव

पैक और स्वाद वाले फलों के रस में धातु की भारी मात्रा के कारण यह हानिकारक है। विषाक्तता इस भोजन और पेय पदार्थों में विनिर्माण पैकेट या उत्पाद पैकेजिंग के दौरान भी आती है। इसके अलावा, कभी-कभी पैक्ड जूस में भारी धातु होने के कारण यह आपके बच्चे के लिए हानिकारक होता है। अध्ययन के अनुसार, पैक्ड दूध में पाए जाने वाले खनिजों का बच्चे की नर्स प्रणाली पर भयानक प्रभाव पड़ता है और यह बच्चे के परेशान मस्तिष्क को नुकसान पहुंचाने के लिए भी जिम्मेदार होते हैं।
घर पर एक स्वस्थ रस बनाएं

यदि आप और आपके बच्चे रस के शौकीन हैं, तो आप पैक किए गए रस के बजाय घर पर जूस बना सकते हैं। यह आपके और आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। घर पर बना सॉस मिश्रित और स्वस्थ नहीं होता है, जिसमें चीनी का स्तर अधिक नहीं होता है, और यह पोषक तत्वों से भी समृद्ध होता है। ध्यान रखें कि कार्बनिक तरल खतरनाक भी हो सकता है।
सावधानियां

बिना चीनी के भी वेजिटेबल जूस बनाएं।

फल और गाजर जैसी सब्जियों में स्वाभाविक रूप से चीनी होती है।

जूस में चीनी मिलाकर पीने से वजन बढ़ सकता है।

कैफीन के बिना रस पीना केवल पीने के लिए फायदेमंद है।

No comments