गर्भावस्था आहार: गर्भावस्था से पहले खाना शुरू करें फोलिक एसिड आहार माँ और बच्चे दोनों के लिए आवश्यक है।

Share:

गर्भावस्था आहार: गर्भावस्था से पहले खाना शुरू करें फोलिक एसिड आहार माँ और बच्चे दोनों के लिए आवश्यक है।


ज्यादातर महिलाएं अपने खानपान में अनदेखी करती हैं। भविष्य में इसके कई दुष्परिणाम हैं। यह देखा गया है कि जिन महिलाओं ने बचपन से ही उचित और संतुलित आहार लिया है, उनका रोग प्रतिरक्षा प्रणाली और अनुचित खान-पान की गर्भावस्था की आदत से बेहतर है। काम के बोझ और जिम्मेदारियों और कई अन्य कारणों के कारण, ज्यादातर महिलाएं इस बात की परवाह नहीं करती हैं कि वे क्या खा रही हैं।


इस अवधि में संतुलित आहार लेने के लिए गर्भावस्था बहुत महत्वपूर्ण है। क्योंकि गर्भ में बच्चे की वृद्धि माँ के विकास और माँ के स्वास्थ्य दोनों पर निर्भर करती है। हालांकि, भोजन के प्रति लापरवाही अक्सर किशोरावस्था से शुरू होती है, जो बाद में प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान अपने आहार में फोलिक एसिड शामिल करना सबसे महत्वपूर्ण है, जो रक्तचाप, एनीमिया और यकृत जैसी समस्याओं से बचने के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, आहार में उच्च फोलिक एसिड का सेवन करने वाली महिलाओं में गर्भपात की संभावना कम होती है।
फोलिक एसिड के लाभ

फोलिक एसिड, आयरन, विटामिन डी, विटामिन बी 12, कैल्शियम जैसे पोषक तत्व महिलाओं के लिए आवश्यक हैं। फोलिक एसिड दिल से संबंधित बीमारियों और अल्जाइमर के खतरे को कम करने में सहायक है, इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड की आवश्यकता बढ़ जाती है, जिससे कि यह शिशु के जन्म के समय उसे न्यूरल ट्यूब से संबंधित समस्याओं से बचाता है।


अध्ययनों से पता चलता है कि यदि महिलाएं गर्भावस्था से पहले और आवश्यकतानुसार गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड लेती हैं, तो लगभग 70 प्रतिशत न्यूरल ट्यूब संबंधी समस्याओं से बचा जा सकता है।
फोलिक एसिड का स्रोत

फोलिक एसिड सबसे अच्छा और सबसे अच्छा स्रोत है- दाल, मटर, सोयाबीन, ड्राई फ्रूट्स, बीन्स, ब्रोकोली, केला, पपीता, हरी पत्तेदार सब्जियां, मीट, आदि इन सभी खाद्य पदार्थों से फोलिक एसिड प्राप्त किया जा सकता है। एक कप सोयाबीन में, 186-256 ग्राम, एक कप अलसी के बीज में 168 ग्राम, एक कप बीन में 193 ग्राम और एक कप पंख वाले केले में लगभग 225 ग्राम पाया जाता है। इसलिए हर महिला को कोशिश करनी चाहिए कि गर्भावस्था के दौरान उसके पास फोलिक एसिड होना चाहिए।
कैल्शियम और विटामिन डी भी महत्वपूर्ण हैं

फोलिक एसिड के अलावा, गर्भवती महिला को अपने आहार में मछली, नट्स, सोयाबीन, दालें, दूध, और दही और पनीर जैसे दूध उत्पादों का सेवन करना चाहिए क्योंकि इनमें कैल्शियम प्रचुर मात्रा में होता है। शरीर में कैल्शियम के अवशोषण के लिए फास्फोरस और विटामिन डी की भी आवश्यकता होती है। हड्डियों की मजबूती के लिए कैल्शियम के अलावा विटामिन डी भी आवश्यक है। इसलिए, गर्भवती महिला को नियमित रूप से थोड़े अंतराल में सुबह की धूप लेनी चाहिए। यह विटामिन डी का अच्छा स्रोत है।
गर्भावस्था के दौरान नियमित व्यायाम

अक्सर देखा गया है कि गर्भवती महिलाओं को काम करने और फिर से चलने से रोका जाता है। जबकि गर्भावस्था के दौरान हल्के शरीर की गतिविधियाँ भी बेहद महत्वपूर्ण होती हैं, इसके अलावा, कुछ लोगों का मानना ​​है कि गर्भावस्था के दौरान व्यायाम नहीं करना चाहिए। यही कारण है कि कई लोग इस तथ्य के बारे में संदेह करते हैं। स्वास्थ्य और फिटनेस विशेषज्ञों का मानना ​​है कि गर्भवती महिलाओं को प्रकाश और शारीरिक गतिविधियां करते रहना चाहिए। ऐसा करने से, बच्चे को विकसित करना और महिला का प्रसव आसान होता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं के लिए रोजाना आधे घंटे व्यायाम करना जरूरी है।
ऐसा करो

सबसे महत्वपूर्ण बात, गर्भावस्था के दौरान नाश्ते को न छोड़ें और सभी पोषक तत्वों से भरपूर भोजन करें। ऐसे खाद्य पदार्थ, जो शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व देते हैं, खून की कमी को पूरा करते हैं। अगर आप चुकंदर, फल, हरी पत्तेदार सब्जियां, दूध, नट्स और खट्टा खाना चाहते हैं, तो नियमित रूप से विटामिन-सी वाले फल जैसे आंवला, संतरा, नींबू, टमाटर आदि का सेवन करें।

No comments